Friday, 24 February 2017

औकात...

ब्रांडेड जूते, चप्पलों से
  ठसाठस भरती जा रही
    जूतों की अलमारी
     बेचारे सादे
     बिना ब्रांड के
     पुराने चप्पल
     दबे जा रहे थे
    दर्द के मारे
       कराह रहे थे
      तभी ,इठलाती
    इक ब्रांडेड जूती बोली
    यहाँ रहोगे तो ऐसे
    ही रहना होगा दबकर
    देखो ,हमारी चमक
  और एक तुम
   पुराने गंदे ...हा....हा....
    फिर एक दिन
    पुरानी जूतों की शेल्फ
    रख दी गई बाहर
    रात के अँधेरे में
    चुपचाप पुराने चप्पल
     निकले और
    धुस गए अपनी
    पुरानी शेल्फ में
   अपनी "औकात"
जान गए थे ।
  
            शुभा मेहता
           24th feb .2017

16 comments:

  1. Aaj ke jamane ki sacchai jahan insan ki halat uss purane joote chappal on jaisi ki rahna hai toh jo kaha jaaye vo suni jaise bolne ko bola jaaye bolo bina ye soche huye ki nye ko bhi purana hona hai us par bhi dabav pad skta hai acchi lgi kavita samay ke anukool bahut sundar seedhe shabdon mein yatharth darshati huyi wah ho gyi tu ek manjhi huyi kaviyatri dher saara ashirwad aur bahut saara pyaar 💐💐💐😊😊😊☺☺☺☺

    ReplyDelete
  2. औकात को बहुत हीअच्छे तरीके के परिभाषित किया है आपने। जिन्हें हमारी कदर नहीं उन के बीच रहने से क्या फ़ायदा?

    ReplyDelete
  3. औकात को बहुत हीअच्छे तरीके के परिभाषित किया है आपने। जिन्हें हमारी कदर नहीं उन के बीच रहने से क्या फ़ायदा?

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद ज्योति जी ।

      Delete
  4. दिनांक 28/02/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंदhttps://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
    आप भी इस चर्चा में सादर आमंत्रित हैं...
    आप की प्रतीक्षा रहेगी...

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत धन्यवाद कुलदीप ठाकुर जी ,मेरी रचना को पाँच लिंकों का आनंद में शामिल करनें हेतु । आभार ।

    ReplyDelete
  6. प्रतीक के माध्यम से बहुत कुछ कह दिया आपने ... परिवार में अक्सर बुजुर्गों के साथ ऐसा होता है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद दिगंबर जी।

      Delete
  7. आज का कटु सत्य...बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद शर्मा जी ।

      Delete
  8. संकेतात्मक भाषा में औकात को बहुत ही अच्छे तरीके से समझाया है आपने ।
    वाह !
    बहुत खूब।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Swagat hai sudha ji aapka mere blog per ..bahut -bahut dhanywaad....

      Delete
  9. We are self publishing company, we provide all type of self publishing,printing and marketing services, if you are interested in book publishing please send your abstract
    self publishing,printing and marketing services

    ReplyDelete
  10. वास्तविकता आज के परीवेश की ,,,

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार रितु जी ।

      Delete
  11. सत्य कहा ,आज अमीर-गरीब ,छोटे-बड़े की भावना हमारे रग-रग में समाई हुई है ,पर सबसे बड़ी बात हम पूर्वाग्रह से ग्रसित हैं ! सुंदर वर्णन

    ReplyDelete