Saturday, 9 May 2015

जीवन संध्या

अरे ,मैं हूँ एक चटका हुआ कप
     पड़ा हूँ एक कोने मैं
    रखा जाता है मुझमे कभी
     बचा हुआ आटा या तेल
    मुझे याद है अभी भी वो दिन
     जब आया था इस घर में
     मेरी मालकिन रोज चमकाती मुझे
     शान से मेरी खूबसूरती बयां करती
   और मैं ,गर्व से फूला न समाता  ।
   आज आलम है कुछ और
   मेरे बाकी के साथी मुझे चिढ़ाते हैं
     और आज तो हद हो गई
     किसी ने कहा -अरे ये टूटा कप
     क्यों रखा है इसे
     बड़ा अपशगुन होता है
     और फिर,फ़ेंक दिया गया मुझे
     कचरापेटी में
     तब से पड़ा हुआ हूँ इस गंदे ढेर पर
       बस देखा करता हूँ
     आते जाते लोगों को
      ना  जाने कब कोई आएगा
    मुझे चूर-चूर कर जायेगा
   शायद यही मेरी नियति है   ।
   

Friday, 1 May 2015

माँ

    ममता की  छाँव
         जीवन की नाव
         स्नेह की मूरत
            प्यारी सी सूरत
           सिखाती है बुनना सपनों को वो
            लगने ना देती कभी उनमें गांठ
           उससे ही सीखा है मैंने
           जीवन का पाठ ।
          माँ  है वो मेरी
       माँ..... शब्द ही ऐसा है
       सुनते ही जैसे
         कानों में मिसरी सी घुल जाती है
          एक  अनोखी सी रचना है सृष्टि की
          बहता है दिल  में जिसके
         प्रेम का अथाह सागर
       लगाती  हूँ जिसमे डुबकियाँ
       गर हो कभी कोई गलती
        देती है मीठी सी झिड़की
         छुपा लेती पल्लू में
         आती जब कोई मुझ पर आंच ।