Friday, 4 October 2013

फर्क

बंगले मे रहने वाली मेमसाब से पूछा महाराज ने,
   आज कया बनेगा?
     पालक पनीर या पनीर टिक्का,
     बिरयानी और साथ में खीर भी,
     मैडम बोली, हां बनालो सभी कुछ  ।
       उधर, झोपड़ी में भी सवाल वही था,
      आज क्या बनेगा?जाकर रसोई में देखूँ
       कुछ पडा है क्या? थोड़े से चावल या  थोडा सा आटा।
    मिटा सकूं मै जिससे भूख अपने परिवार की  .            
               
                                                              

5 comments:

  1. Wah.... adbhut likhti h aur kitni samvedna bhari huyi h manvikta se ot prot

    ReplyDelete
  2. Wah.... adbhut likhti h aur kitni samvedna bhari huyi h manvikta se ot prot

    ReplyDelete
  3. मार्मिक अभिव्यक्ति। सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार ध्रुव जी ।

      Delete