Friday, 16 September 2016

वाह री दुनियाँ

    दूर के ढोल सुहावने
      पास बजें तो शोर
      घर की मुर्गी दाल बराबर
       बाहर की अनमोल
     कोई अपना ज्ञान बखाने
     अधजल गगरी को छलकाए
     कोई भैंस के आगे बीन बजाए
     पर उसको कुछ समझ न आए
     सबको अपना-अपना ध्यान
     अपनी ढ़़फली अपना राग
    कोई फटे में पैर फँसाए
    और उलझ कर खुद रह जाए
   अपनी गलती कोई न माने
    इक दूजे पर दोष लगाए
    इसका ,उसका ,तेरा ,मेरा
   करके यूँ ही उमर गँवाए
     कोई अंधों में काना राजा
   कहीं शेखचिल्ली सी बातें
    अजब -गजब हैं लोग तिहारे
     वाह री दुनियाँ  ,तेरे रूप निराले ।

                                  शुभा मेहता
 
                               16th september.2016
   
 

12 comments:

  1. Wah..... seedhi sapat baat kitni asani se kah jaati h kayal hoon teri is shaily ka ek asadharan vidushi h khoob likh aur samaj ka vastavik chehra logon ko dikha

    ReplyDelete
  2. Wah..... seedhi sapat baat kitni asani se kah jaati h kayal hoon teri is shaily ka ek asadharan vidushi h khoob likh aur samaj ka vastavik chehra logon ko dikha

    ReplyDelete
  3. Vichar to sabhi k man m aate h par unhe achchi tarah se abhivyakt karna hi kala h. Tu is kala m mahir hoti ja rahi h. Jeep it up...

    ReplyDelete
  4. Vichar to sabhi k man m aate h par unhe achchi tarah se abhivyakt karna hi kala h. Tu is kala m mahir hoti ja rahi h. Jeep it up...

    ReplyDelete
  5. सत्य वचन शुभा जी खूब लिखा

    ReplyDelete
  6. सत्य वचन शुभा जी खूब लिखा

    ReplyDelete