Wednesday, 10 May 2017

आत्म भ्रमण

  मन ने कहा ,चलो आज
   चलोगी आत्म भ्रमण पर
    मैं बोली क्यों नही
     सबसे पहली मुलाकात
     स्वयं के अहम् से
     गुफ्तगू हुई
     शायद इसी के
    कारण उलझनें हैं कई
     चाहा छोड़ दूँ राह पर इसे
     कम्बख्त ,छोड़ता ही नहीं
      साथ ही चला वो
       आगे मिला क्रोध ..
        बना दिया है
       जिसने कइयों को
         नाराज़ , खुद को बीमार
        फिर टकराए .ईर्ष्या ,द्वेष
       न खुद रहते चैन से ,न रहने देते
        कब से खोज रही थी
        जिस निर्मल प्रेम को
        देखा तो दुबका बैठा था
       इक कोने में
        जगाया , झकझोर के उठाया
          कहा ,जागो ....
       आज दुनियाँ को
       सबसे अधिक जरूरत है
        तुम्हारी ,चलो
        बना दो जग को    
       प्रेममय ,छेड़ो कोई
         तान मधुर
        सब रंग जाएँ
         रंग तुम्हारे ......
          मैं भी ....।
        
           शुभा मेहता
         10 May ,2017
        
        

14 comments:

  1. Bahut itminan se likhi gyi h aur aaj ki jaroorat bhi h har taraf jhagda kahin aham toh kahin irsha dvesh aur anth bahut hi sakaratmak bhasha har baar ki taraf saral suljhi huyi aur ander baithti huyi bas likhe jaa bahut jldi sangrah bhi aayega teri kavitaon ke vishay sach mein kafi samay ke anuroop mil rhe hain bahut yashasvi ho deerghayu ho bahut bahut pyaar aur ashish

    ReplyDelete
  2. कब से खोज रही थी जिस निर्मल प्रेम को दुबका बैठा था एक कोने में ,उसे जगाया झकझोर के उठाया ,कहा जागो दुनियाँ को सबसे अधिक जरूरत्त तुम्हारी है ।
    बहुत ही सुंदर विचारों के साथ सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद ऋतु जी ।

      Delete
  3. कई दिनों बाद आना हुआ आपके ब्लॉग पर... पोस्ट पढ़ी तो शानदार लगी लफ़्ज़ों में गहरे अहसास .....बहुत ही खूबसूरत.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत-बहुत आभार संजय जी ।

      Delete
  4. Replies
    1. बहुत -बहुत आभार ।

      Delete
    2. बहुत -बहुत आभार ।

      Delete
  5. कहा जाता है कि इंसान को सबसे ज्यादा यदि किसी चीज की आवश्यकता है तो वो है प्रेम। इंसान उसी प्रेम को भुला बैठा है। उसको जागृत करने का प्रयास करती सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ज्योति जी ।

      Delete
  6. बहुत ही शानदार और प्रभावी रचना की प्रस्तुत। मुझे बेहद पसंद आई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद जमशेद आज़मी जी ।

      Delete
  7. आत्म भ्रमण में मन के विकारों से मुलाकात । और इन विकारों के बीच प्रेम भला कैसे ठहर सकता है ! लाजवाब प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है राजेश जी आपका मेरे चेनल पर ,बहुत बहुत धन्यवाद ।

      Delete