Thursday, 12 December 2019

अलाव

पूस की ठिठुरती रात में 
 बैठ जाते अलाव जलाकर 
 जिनका न कोई ,ठौर -ठिकाना 
  ना बिस्तर ,ना कंबल 
   आग सेकते..
   कुछ कुत्ते -बिल्ली भी साथ में
     ठंडी हवाएं ,ठरता अलाव 
      उनींदी आँखेँ ..
       आँखों म़े सपने 
        बस इतने 
         काश होता इक घर 
           चाहे छोटा सा ..
            होता इक बिस्तर 
           बस इक कंबल .....
             चैन से तो सोता ।
       शुभा मेहता 
       12th Dec ,2019

23 comments:

  1. Log apna jiwan kitni tarah ki kathinaiyon se kaat te hain thithurti raat sard hawa sar par chat nhi kuch kachre ko jamaa kr alaav bnana aur din ki thakan utarna bahut bhavuk krti kavita hai apne aas pass ghat rhi pidaon ka chitran 👏👏👏💐💐💐😊😊😊

    ReplyDelete
  2. सड़क पे रहने वालों की प्रासादी को लिखा है ...
    सच है की इस ठिठुरती रात में एक कम्बल ... इसके आगे कुछ नहीं ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दिगंबर जी ।

      Delete
  3. Replies
    1. धन्यवाद आदरणीय । स्वागत है आपका अभिव्यक्ति में 🙏

      Delete
  4. जी नमस्ते,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार(१४-१२-२०१९ ) को " पूस की ठिठुरती रात "(चर्चा अंक-३५४९) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।

    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद प्रिय सखी ।

      Delete
  5. Replies
    1. धन्यवाद गगन शर्मा जी ।

      Delete
  6. मर्मस्पर्शी रचना

    ReplyDelete
  7. बेघरों की मार्मिक दशा ,बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ,सादर नमन

    ReplyDelete
  8. बेघर और अनाथ लोगों की व्यथा का मर्मस्पर्शी चित्रण ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मीना जी ।

      Delete
  9. हृदय स्पर्शी यथार्थ सृजन।
    बहुत सुंदर शुभा जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद कुसुम जी ।

      Delete
  10. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    १६ दिसंबर २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  11. काश ऐसा हो जाये ,घर और बिस्तर मिल जाये

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद सखी ।

      Delete
  12. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद सुधा जी ।

      Delete