Saturday, 26 November 2016

उड़ता पंछी

   मैं , उडता पंछी
    दूर....दूर .....
    उन्मुक्त गगन तक
     फैलाकर अपनी पाँखें
    उड़ता हूँ
      कभी अटकता
       कभी भटकता
       पाने को मंजिल
      इच्छाएँ ,आकांक्षाएँ
      बढती चली जातीं
      और दूर तक जाने की
      खाता हूँ ठोकरें भी
      होता हूँ घायल भी
      पंख फडफडाते हैं
     कुछ टूट भी जाते हैं
      और फिर , अपना सा कोई
     कर देता है
      मरहम -पट्टी
     देता है दाना -पानी
    जरा सहलाता है प्यारसे
   जगाता है फिर से प्यास
    और ऊपर उड़ने की
     और मैं चल पड़ता हूँ
      फिर से पंख पसार
    अपनी मंजिल की ओर ....।

                 शुभा मेहता
                19th Nov .2016

22 comments:

  1. वाह.... क्या अभिव्यक्ती है कितनी ऊर्जा भरी पंक्तियाँ है सुन्दर अति सुन्दर कायल हो गया हूँ तेरी शैली का। बहुत बहुत प्यार एवं दुलार । खुश रह सुखी रह।💐💐☺☺☺💐💐

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति, शुभा!

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है आपका मेरे ब्लौग पर ज्योति । बहुत -बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 28 नवम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशोदा जी मैं आपकी बहुत आभारी हूँ , मेरी रचना को पाँच लिंकों के आनंद मेंं स्थान देने के लिए । बहुत -बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  4. सुन्दर शब्द रचना
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार आपका सावन कुमार जी ।

      Delete
  5. शुभा जी बहुत ही अच्छी कविता है। आपको बधाई।

    ReplyDelete
  6. बहुत -बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  7. बहुत आभार आपका सुशील कुमार जी ।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर कविता है | धन्यवाद |

    ReplyDelete
  9. स्वागत है आपका मेरे ब्लॉग पर । बहुत -बहुत धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  10. स्वागत है आपका मेरे ब्लॉग पर । बहुत -बहुत धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  11. सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  12. कमाल का पोस्ट है साहब , ऐसा पोस्ट पढने की हार्दिक इच्छा थी मेरी। . मेरी उम्मीद है अब आपसे की पोस्ट निरंतर करे,

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद त्रिपाठी जी ।स्वागत है आपका तमेरे ब्लॉग पर।

      Delete
  13. आनंद मयी बिचार है इस कबिता में। . दिल को छू लिया आपकी कबिता ने !!
    फेसबुक में मेरा भी एक पेज चल था है दिल की बात

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद त्रिपाठी जी।

      Delete
  14. बहुत सुन्दर शुभा जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सुधा जी । स्वागत है मेरे ब्लॉग पर आपका

      Delete