Thursday, 15 February 2018

खलल....

जी हाँ ,पडती है खलल
जीवन में मेरे जब
  आकर कोई कर जाता
  है सपनों को ध्वस्त मेरे
   देता है झकझोर मेरे
    समूचे अस्तित्व को,
  कितनी आसानी से
  कह जाता है ,
  ये करो ,वो मत करो
   शायद उनकी
  नजरों में
   मेरा न कोई अस्तित्व है
  न व्यक्तित्व
    जब भी बुनना चाहूँ
      सपने ,ठानू उन्हें
     पूरा करनें की
   फिर कोई हाथ
   आकर झकझोर जाता है..
    डाल जाता है
      खलल ....अनचाही ...।

शुभा मेहता ..

 

17 comments:

  1. Khalal jiwan ko ast-vyast kr deti hai phir vo chahe apno ke dwara hi ya koi bahari vyakti dwara bahut maarmik shabdavali aur yatharth darshati panktiyan hain poori paripakvata aur gahrai leti huyi rachit kavita hai shabbash bahen kam likhti hai par jo bhi likhti vah adbhut hi likhti hai jiyo gudia bahen deerghayu ho dher saara pyaar aur ashirwad 💐💐💐💐💐💐😘😘😘😘😘😘😘

    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक १९ फरवरी २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी ह्रदयतल से आभारी हूँ श्वेता जी ।

      Delete
  3. निमंत्रण :

    विशेष : आज 'सोमवार' १९ फरवरी २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच ऐसे ही एक व्यक्तित्व से आपका परिचय करवाने जा रहा है जो एक साहित्यिक पत्रिका 'साहित्य सुधा' के संपादक व स्वयं भी एक सशक्त लेखक के रूप में कई कीर्तिमान स्थापित कर चुके हैं। वर्तमान में अपनी पत्रिका 'साहित्य सुधा' के माध्यम से नवोदित लेखकों को एक उचित मंच प्रदान करने हेतु प्रतिबद्ध हैं। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद नीतू .।

      Delete
  5. बहुत सुन्दर....
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार आपका सुधा जी ।

      Delete
  6. ख़लल पर बहुत सुन्दर लिखा है आपने शुभा जी आपने

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद रितु जी ।

      Delete
  7. बहुत सुन्दर‎ अभिव्यक्ति‎ शुभा जी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद मीना जी ।

      Delete
  8. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  9. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' २६ फरवरी २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीय माड़भूषि रंगराज अयंगर जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।

    अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    ReplyDelete
  10. इस अनचाही ख़लल को अपने विश्वास और साहस से ही दूर करना होता है ...
    आपका कहना सही है की ये ख़लल कुछ करने नहीं देती ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद दिगंबर जी ।

      Delete