Monday, 8 October 2018

उलझन

उलझन सुलझी ..?
नहीं .....?
   कोशिश करो ..
    कर तो रहे है ,
    पर ये धागे
     इतने उलझ गए हैं
     कि सुलझ ही नहीं रहे
      अरे भैया ,धीरज रखो
        आराम से  ..
      एक -एक गाँठ ..
      धीरे -धीरे खोलो
       याद करो ,तुम्ही नेंं
       लगाई थी न ये गाँठें
        नफरत की ,
       ईर्ष्या की , द्वेष की
       अब तुम्हें ही सुलझाना है इन्हें
        धैर्य से ,प्रेम से
          प्रीत से ,प्यार से ...  ।
       

      शुभा मेहता
      9th Oct,2018
          
          
     

28 comments:

  1. Wah adbhut kavita samay ke pariprekshya mein aur samay ki maang hai ye khud ke dwara paida ki gyi uljhano ka hame hi nivaran krna pdega behadd khubsurat panktiyon se sanjoya hai toone choti par bahut teekshna kavita seedhe dil me utarti hai bahut bahut pyaar aur khoob likh
    😘😘😘

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (10-10-2018) को "माता के नवरात्र" (चर्चा अंक-3120) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय राधा जी ,मेरी रचना को "माता के नवरात्र"चर्चा अंक में स्थान देने हेतु ।

      Delete
  3. सही बात हैं शुभा,यदि हम प्यार से नफरत की गांठो को खोलने की कोशिश करेंगे तो वो जरूर खुलेगी। बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ज्योति ।

      Delete
  4. सही है दीदी हुमीने लगाई है ये गांठ और सुलझाना भी हमे ही है अच्छी रचना है

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद नितिन भाई ।

      Delete
  5. सुंदर भावपूर्ण रचना, बोध देती हुई सी

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सखी ।

      Delete
  6. सच कहा है प्रेत प्रेम से हर उलझन सुलझती है ...
    धागा धीरे धीरे सुलझाना अच्छा होता है ... सुन्दर शब्द रचना है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  7. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक १४ अक्टूबर २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  9. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  10. बहुत ही सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सखी ।

      Delete
  11. बहुत सुंदर शुभा जी,जब बांधी है तो छुडाई तो होगी सटीक रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका कुसुम जी ।

      Delete
  12. याद करो ,तुम्ही नेंं
    लगाई थी न ये गाँठें
    नफरत की ,
    ईर्ष्या की , द्वेष की
    अब तुम्हें ही सुलझाना है इन्हें
    धैर्य से ,प्रेम से
    प्रीत से ,प्यार से ... । बेहद खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद सखी ।

      Delete
  13. बहुत सुन्दर शुभा जी. ऐसों के लिए ही कहा गया है -'घर में आग लगाय, जमालो दूर खडीं.' और अब जमालो आग बुझाने की गुहार लगा रही हैं. वैसे हमारे देशभक्तों की ऐसे कलई खोलना खतरनाक हो सकता है. सबके सब जमालो ही हैं.

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर सीख देती लाजवाब रचना...।
    वाह!!!

    ReplyDelete
  15. धागा धीरे धीरे सुलझाना अच्छा होता है ... बेहद खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर सीख देती रचना .

    ReplyDelete