Saturday, 19 October 2019

दीवाली

  आओ हम सब 
इस दीवाली 
अपने मन का 
दीप  जलाएं
  भेदभाव छोडकर सारे 
  दीप से दीप जलाएं 
  कर दें उजियारा चहुँ ओर 
   दीपमाल से गुँथ जाएंं
  जैसे इक माला के फूल 
    तोड़ न पाए इस माला को 
    कोई दुश्मन .............,
     करले चाहे कोशिश कितनी 
      चाहे जितना जोर लगाए 
       आओ हम सब  .. .

  शुभा मेहता 
 19th Oct ,2019
    

30 comments:


  1. जय मां हाटेशवरी.......
    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    20/10/2019 रविवार को......
    पांच लिंकों का आनंद ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में. .....
    सादर आमंत्रित है......

    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    http s://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदयतल से आभार कुलदीप जी ।

      Delete
  2. Wah chapne ke sath satb 5links me chli gyi teri kavita diwali miljul kar khushiyan baant te huye manane ka tyohaar hai bagut acchi kavita bhed bhav chhorkar saare apne man ka deep jalayen wah kitni sundar panktiyan hain adbhut hai tu aur teri lekhni dher saara pyaar aur khoob likh 💐💐💐👍👍👍😊😊😊

    ReplyDelete

  3. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    २१ अक्टूबर २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।,

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद श्वेता ।

      Delete
  4. अपने मन का
    दीप जलाएं
    भेदभाव छोडकर सारे
    दीप से दीप जलाएं
    बहुत सुन्दर....
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार सुधा जी ।

      Delete
  5. वाह बेहतरीन रचना।भेद-भाव को दूर करती सुंदर प्रस्तुति।दिवाली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार सखी ।आपको भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ।

      Delete
  6. शुभकामनाएं दीपपर्व की। सुन्दर भाव।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  7. सुंदर शुभा जी, दीप से दीप जलाने की शुभ्र भाव दिवाली मनाएं , बहुत सुंदर सृजन।
    दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छे भाव

    दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें
    दुआ  पधारें

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद ।

      Delete
    2. बहुत-बहुत आभार ।

      Delete
  9. सुन्दर विचार।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  10. प्रिय शुभा बहन , आपके ही जैसी सरल सी शुभता भरे भावों वाली रचना जिसमें कल्याणकारी सोच को पिरोया गया है | आपको दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें | दीपावली आपके जीवन में ढेरों खुशियाँ लेकर आये |

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद प्रिय सखी ।

      Delete
  11. वाह!!!
    बहुत ही सुन्दर कल्याणकारी भावों से भरी लाजवाब कृति....।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद सुधा जी ।

      Delete
  12. यथा नाम, तथा काम। सत्यम, शिवम, सुंदरम की शुभता से शोभित शब्दावली! बधाई!!!

    ReplyDelete
  13. दीपपर्व पर एकता और शांति का संदेश देती सुंदर रचना। बधाई शुभा जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मीना जी ।

      Delete
  14. मन से सारी कौम एक हो जाये तो बात ही निराली है शुभा जी।
    बहुत प्यारी रचना, संदेशप्रद भी।
    आपका नई रचना पर स्वागत है 👉👉 कविता 

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन रचना सखी

    ReplyDelete